Category Archives: Uncategorized

राधेपुरी दिल्ली वर्षायोग २०१३

राधेपुरी दिल्ली वर्षायोग २०१३

राधेपुरी दिल्ली वर्षायोग २०१३

page 1
page 2

राधेपुरी दिल्ली वर्षायोग २०१४

राधेपुरी दिल्ली वर्षायोग २०१४

page 4

राधेपुरी दिल्ली वर्षायोग २०१४

राधेपुरी दिल्ली वर्षायोग २०१४

राधेपुरी दिल्ली वर्षायोग २०१४

राधेपुरी दिल्ली वर्षायोग २०१४

राधेपुरी दिल्ली वर्षायोग २०१४

राधेपुरी दिल्ली वर्षायोग २०१४

राधेपुरी दिल्ली वर्षायोग २०१४

राधेपुरी दिल्ली वर्षायोग २०१४

Chatumas Image

आचार्यश्री के चातुर्मास ke vishay and sthan ke baare main

1. 1991 – रोहतक (हरियाणा)

2. 1992 – निवाई (राजस्थान)

3. 1993 – नावा (राजस्थान)

4. 1994 – कोटा (राजस्थान)

5. 1995 – बिजोलिया (राजस्थान)

6. 1996 – केसरिया (राजस्थान)

7. 1997 – सागवाड़ा (राजस्थान)

8. 1998 – चितरी (राजस्थान)

9. 1999 – बढ़ नगर (मध्य प्रदेश)

10. 2000 – इंदौर (मध्य प्रदेश)

11. 2001 – खंडवा (मध्य प्रदेश)

12. 2002 – औरंगाबाद (महाराष्ट्र)

13. 2003 – फलटन (महाराष्ट्र)

14. 2004 – सांगली (महाराष्ट्र)

15. 2005 – औरंगाबाद, अरिहंत नगर (महाराष्ट्र)

16. 2006 –  नागपुर (महाराष्ट्र)

17. 2007 –  देवलगांव (महाराष्ट्र)

18. 2008 – बाराबंकी (उत्तर प्रदेश)

19. 2009 – सोनागिर (मध्य प्रदेश)

20. 2010 – औरंगाबाद (महाराष्ट्र)

21. 2011 – बड़ौत(बागपत,उ.प्र.)

22. 2012 – रोहतक (हरियाणा)

23. 2014 – राधेपुरी, कृष्णानगर(दिल्ली)

MaharajShree

Message from MaharajShree

जन्म:01.08.1972
स्थान:भोपाल (एम् 0 पी 0)
लौकिक शिक्षा : बी० काम ०
माता : श्री मती त्रिवेणी बाई
पिता : स्व० श्री कोमल चंद जी जैन
मुनिदीक्षा : 22 जुलाई 1991 रोहतक हरियाणा )
आचार्य पद : 27 मई 2001 इंदौर (मघ्य प्रदेश)
दीक्षा गुरु : गणाधिपति गणधराचार्य श्री कुन्थुसागर जी गुरुदेव
शिक्षा गुरु : वैज्ञानिक धर्माचार्य श्री कनक नंदी जी गुरुदेव
संघस्थ त्यागीगण : 1. मुनि श्री सुयशगुप्तजी 2. मुनिश्री चन्द्रगुप्तजी 3. गणिनी आर्यिकाश्री क्षमाश्री माताजी
4. आर्यिकाश्री आस्थाश्री माताजी 5. क्षुल्लकश्री सुधर्मगुप्त जी 6. क्षुल्लिकाश्री धन्यश्री माताजी
रचनायें : श्री रत्नत्रय विधान , श्री रत्नत्रय आराधना , श्री रत्नत्रय भक्ति सरिता , श्री नवग्रह शांति विधान ,
श्री नवग्रह शांति चालीसा , श्री लघु गणधर वलय विधान , सावधान ( काव्य संग्रह )
सम्पादन : श्री बृहद गणधर वलय विधान , श्री चिंतामणि पार्श्वनाथ विधान